Parva

सारला महाभारत में व्यास महाभारत की तरह ही अठारह पर्व हैं। सौप्तिक, अनुशासन और महाप्रस्थानिक  पर्व सारला महाभारत में नहीं हैं। कुछ पर्व सारला महाभारत में हैं लेकिन व्यास महाभारत में नहीं हैं जैसे मध्य, गदा और कैन्शिक (ऐषिक)। हालाँकि व्यास महाभारत के शल्य पर्व में गदा नाम का उपपर्व है और सौप्तिक पर्व में ऐषिक नाम का उपपर्व हैं। कुछ पर्व सारला महाभारत में मूल संस्कृत महाभारत की तुलना में छोटे हैं जैसे कि शांति पर्व और कुछ पर्व बड़े हैं जैसे कि मौसुल पर्व जिसे सारला महाभारत में मूशली पर्व कहा गया है। लेकिन व्यास महाभारत से अलग सारला के मूशली पर्व में भगवान कृष्ण की परिकल्पना भगवान जगन्नाथ के रूप में की गई है।

व्यास महाभारत और सारला महाभारत के पर्वों की तुलना।

             व्यास महाभारत सारला महाभारत
पर्व संख्या पर्व का नाम पर्व संख्या पर्व का नाम
आदि आदि
मध्य
सभा सभा
अरण्यक वन
विराट विराट
उद्योग उद्योग
भीष्म भीष्म
द्रोण द्रोण
कर्ण कर्ण
शल्य १० शल्य
१० सौप्तिक
११ गदा
१२ कैन्शिक
११ स्त्री १३ नारी
१२ शान्ति १४ शान्ति
१३ अनुशासन
१४ आश्वमेधिक १५ आश्रमिक
१५ आश्रमवासिक १६ अश्वमेध
१६ मौसुल १७ मूशली
१७ महाप्रस्थानिक
१८ स्वर्गारोहण १८ स्वर्गारोहण
हरिवंश
परिशिष्ट